Sunday, September 06, 2020

 

जो बहुत डरावना होता है वह बहुत ही डरपोक होता है ।

अपने तमाम फौज-फांटे, गुण्डा वाहिनियों, हथियारों के जखीरे और सुरक्षा के इंतज़ामात के बावजूद वह कभी चैन की नींद नहीं सो पाता!

डरा हुआ आदमी बहुत अत्याचारी होता है ।

उसके बढ़ते अत्याचार ही उसे उसके विनाश की ओर घसीटते जाते हैं ।

अंततः वह अपनी आशंकाओं और दुस्वप्नों से भी बुरी मौत मरता है ।

(6सितम्‍बर, 2020)

...............................................


कई बार अपार बौद्धिक श्रम और गहन शोध के बाद बुद्धिजीवी उस सत्य को खोज निकालते हैं जिसे आम लोग पहले से ही जानते होते हैं !

..................................................


अक्सर यह पाया गया है कि जो गुज़रे हुए दिनों की ख़ूब चर्चा करते हैं वे धीरे-धीरे ख़ुद गुज़रे हुए दिनों की चीज़ बन जाते हैं !

अक्सर यह पाया गया है कि जो गुज़र चुके लोगों को बहुत प्यार के साथ याद करते हैं वे जीवितों के साथ बहुत निर्मम व्यवहार करते हैं !

(7सितम्‍बर, 2020)



No comments:

Post a comment