Tuesday, October 08, 2019

तानाशाह की चाहत


तानाशाह की चाहत थी कि जो भी

सबसे अच्छा, सबसे बड़ा, सबसे अधिक, सबसे टिकाऊ

और सबसे सुन्दर हो, वह उसे हासिल हो I

वह सबसे बड़े साम्राज्य, सबसे अच्छे दरबारियों,

सबसे बड़ी सेना, सबसे खूंख्वार दंगाइयों, सबसे उन्मादी अनुयाइयों,

सबसे बड़े नरसंहारों, सबसे ज़्यादा सैर-सपाटों, सबसे सुन्दर पोशाकों,

सबसे सम्मोहक मिथकों और सबसे भव्य मंचों और आयोजनों के साथ

सबसे ज़्यादा लम्बे समय तक शासन करना चाहता था I

*

इतिहास में सभी तानाशाहों ने

हमेशा ऐसा ही चाहा

और आखिरकार एक समय आया

जब लोगों ने हर तानाशाह को

सबसे बड़ी और सबसे कठोर सज़ा दी

और फिर कहा कि यही सबसे न्यायपूर्ण,

सबसे अच्छा और सबसे सुन्दर काम है

सबसे ज़्यादा लोगों के हित में I

खदेड़े गए कुछ तानाशाह

अपने संरक्षक देशों की राजधानियों में

बूढ़े छछूंदरों की तरह बिलों-नालियों में दुबके हुए मरे

और शेष को लोगों ने सड़कों पर घसीटा

और चौराहों पर उलटा टांग दिया I

(6अक्‍टूबर, 2019)

No comments:

Post a comment