Friday, February 09, 2018




महाप्राण निराला के जन्मदिन के अवसर पर
टूटें सकल बन्ध
कलि के, दिशा-ज्ञान-गत हो बहे गन्ध।
रुद्ध जो धार रे
शिखर - निर्झर झरे
मधुर कलरव भरे
शून्य शत-शत रन्ध्र।
रश्मि ऋजु खींच दे
चित्र शत रंग के,
वर्ण - जीवन फले,
जागे तिमिर अन्ध।
-- सूर्यकांत त्रिपाठी 'निराला'

No comments:

Post a Comment