Tuesday, June 14, 2016

अल्‍बर्ट आइंस्‍टीन की कुछ दिलचस्‍प लेकिन सारगर्भित उक्तियाँ






- हम अपनी समस्‍याओं को उसी सोच के साथ खत्‍म नहीं कर सकते, जिस सोच के साथ हमने उन्‍हें पैदा किया।

- मूर्खता और बुद्धिमता में यह फर्क है कि बुद्धिमता की एक सीमा होती है।

- दो चीज़ें अनन्‍त हैं: ब्रह्माण्‍ड और मनुष्‍य की मूर्खता, और मैं ब्रह्माण्‍ड के बारे में दृढ़ता से नहीं कह सकता।

- पागलपन: एक ही चीज़ को बार-बार करना और हमेशा अलग परिणाम की आशा करना।

- ज़ि‍न्‍दगी जीने के दो तरीके हैं। पहला यह कि कुछ भी चमत्‍कार नहीं है और दूसरा यह कि दुनिया की हर चीज़ चमत्‍कार है।

- हर इंसान जीनियस है। लेकिन यदि आप किसी मछली को उसकी पेड़ पर चढ़ने की योग्‍यता से जज करेंगे तो वह अपनी पूरी ज़ि‍न्‍दगी यह सोचत हुए जियेगी कि वह मूर्ख है।

- संयोग ईश्‍वर का बचा हुआ गोपनीय रास्‍ता है।

- एक मेज, एक कुर्सी, एक कटोरा फल और एक वायलिन; खुश रहने के लिए भला और क्‍या चाहिए?






No comments:

Post a Comment