Sunday, June 05, 2011

तुम्‍हारे पंजे देख कर
डरते हैं बुरे आदमी
तुम्‍हारा सौष्‍ठव देख कर
खुश होते हैं अच्‍छे आदमी
यही मैं चाहूंगा सुनना
अपनी कविता के बारे में।
                             -बेर्टोल्‍ट ब्रेष्‍ट

No comments:

Post a Comment