Saturday, July 25, 2020


परसों एक बरसों पुराने शुभचिंतक साथी मिल गये I रिटायर हो चुके हैं, बाल-बच्चों को व्यवस्थित कर चुके हैं, नया घर भी पॉश लोकैलिटी में बनवा लिया है I तन और मन से टंच और टन-मन हैं I अभी भी सुबह अपने कुत्ते के साथ रोज़ सुबह 5 कि.मी. की सैर करते हैं I पहले भी पॉलिटिक्स पर काफ़ी बात करते थे और क्रांतिकारियों को एक दर्ज़न शिक़ायतों के साथ दो दर्ज़न सुझाव दे देते थे , अब देश-दुनिया के बारे में चिंतित रहने के लिए और अधिक फुर्सत में रहते हैं I

अबकी मिले तो सामाजिक चिंताओं और ज़रूरी सलाहों-मशवरों के बाद निजी चिंताओं-सुझावों पर उतर आये, बोले,"अब अपना जीवन भी कुछ थोड़ा-बहुत व्यवस्थित कर लेने के बारे में सोचना चाहिए तुम्हें I मैंने बहुत सारे कम्युनिस्टों को बुढ़ापे में अकेले पड़ जाते, उपेक्षा झेलते, कष्ट उठाते और अवसाद-ग्रस्त होते देखा है I"

मैंने कहा,"हम उन 'बहुत सारों' से ज़रा अलग किस्म के हैं I" मैंने उन्हें अपनी 15-16 वर्षों पुरानी वही कविता फिर से सुना दी, जो कभी सुना चुकी थी I इस कविता का विद्रोही स्वर बेशक अराजकतावादी है, लेकिन समझौता और समर्पण करके रूढ़ि‍यों और बर्बर परम्पराओं के दुर्गंधमय कीचड़ में रेंगने-घिसटने की तुलना में तो अराजक विद्रोह भी बेहतर ही माना जाना चाहिए I आप सब भी फिर से पढ़िए यह कविता :

"अगर फिर मुझसे कहा गया
किसी कलमघसीट मुदर्रिस,
बुद्धि का चंदन घिसने वाले तुंदियल,
भत्ताभोगी क्रांतिधर्मी
या किसी थकी-हारी आत्मा के साथ
ज़िन्दगी बिताने को,
तो मैं चुनूँगी
किसी क़ब्र खोदने वाले को
और किसी अधखुदी क़ब्र में
रात बिताने के बाद
अगले दिन किसी घुमक्कड़ के साथ
दुनिया घूमने निकल जाऊँगी।"

शुभचिंतक साथी इतने से कन्विंस नहीं हुए I वह कुछ और कहना चाहते थे, लेकिन मैंने शॉर्टकट मारते हुए इक़बाल के ये दो शेर सुना दिए और फिर हम दोनों अपने-अपने रास्ते लग लिए :

"तू शाहीं है परवाज़ है काम तेरा
तेरे सामने आसमां और भी हैं।"

और,

"नहीं तेरा नशेमन क़स्र-ए-सुल्तानी के गुम्बद पर
तू शाहीं है बसेरा कर पहाड़ों की चटानों में "

(28जून, 2020)

No comments:

Post a comment