Tuesday, May 08, 2018






उत्कट मानवतावादी और जनवादी, बीसवीं शताब्दी के महानतम सिने कलाकारों में से एक , चार्ली चैप्लिन (16 अप्रैल,1889 - 25 दिसंबर, 1977) के जन्मदिन के अवसर पर उनकी कुछ दिलचस्प और सारगर्भित उक्तियाँ

*

सबसे दुखद चीज जिसकी मैं कल्पना कर सकता हूँ वो है विलासिता का आदी होना I

*

हम सोचते बहुत हैं और महसूस बहुत कम करते हैं I

*

ज़िन्दगी करीब से देखने में एक त्रासदी है , लेकिन दूर से देखने पर एक कॉमेडी I

*

एक आवारा, एक सज्जन, एक कवि, एक सपने देखने वाला , एक अकेला आदमी, हमेशा रोमांस और एडवेंचर की उम्मीद करते है I

*

सच में हँसने के लिए आपके भीतर अपनी पीड़ा सहन करने और उसके साथ खेलने की क्षमता होनी चाहिए I

*

मैं हमेशा बारिश में टहलना पसंद करता हूँ, ताकि कोई मुझे रोते हुए ना देख सके I

*

मेरा दर्द किसी के लिए हँसने की वजह हो सकता है। पर मेरी हँसी कभी भी किसी के दर्द की वजह नहीं होनी चाहिए I

*

भला कविता को अर्थपूर्ण होने की क्या आवश्यकता है ?

*

मैं लोगों के लिए हूँ I इसका मैं कुछ नहीं कर सकता I

*

मुझे लगता है कि सही समय पर गलत काम करना जीवन की विडंबनाओं में से एक है I

*

मैं सिर्फ और सिर्फ एक चीज रहता हूँ और वो है एक जोकर I ये मुझे राजनीतिज्ञों की तुलना में कहीं ऊँचे स्थान पर स्थापित करता है I

*

इंसानों की नफरत ख़तम हो जाएगी , तानाशाह मर जायेंगे, और जो शक्ति उन्होंने लोगों से छीनी वो लोगों के पास वापस चली जायेगी I और जब तक लोग मरते रहेंगे , स्वतंत्रता कभी ख़त्म नहीं होगी I

*

ऐसी सुन्दरता के लिए मेरे पास धीरज नहीं है, जिसे समझाने के लिए किसी को व्याख्या करनी पड़े I

No comments:

Post a Comment