Tuesday, February 15, 2011

मेरे प्रिय उद्धरण और कृति-अंश: कुतुबनुमा से दिशा दिखाते, राह बताते शब्‍द

''यदि जन बल पर विश्‍वास है तो हमें निराश होने की आवश्‍यकता नहीं है। जनता की दुर्दम्‍य शक्ति ने, फासिज्‍़म की काली घटाओं में, आशा के विद्युत का संचार किया है। वही अमोघ शक्ति हमारे भविष्‍य की भी गारण्‍टी है।
     - राहुल सांकृत्‍यायन

No comments:

Post a Comment