Sunday, November 24, 2013

कॉमरेड दोन किहोते




मनबहकी लाल

(मनबहकी लाल की एक और राजनीतिक व्‍यंग्‍य कविता पढ़ि‍ये और राजनीतिक नौदौलतिये शेखचिल्लियों पर जी खोलकर हँसिए। यह कविता भी मज़दूर अख़बार 'बिगुल' में दस वर्षों पहले छपी थी। -कविता कृष्‍णपल्‍लवी)

दोन किहोते उतर पड़ा है पॉलिमिक्‍स के मैदान में।
गत्‍ते की तलवार भाँजता, शत्रु-दलन-अभियान में।

सिर पुरखों का जूता मानो नेपोलियनी टोप है।
गोले हों फुसफुसे भले ही, क्‍या चंगेज़ी तोप है।
लिल्‍ली घोड़ी पर सवार, फूला अकड़ा है शान में।
दोन किहोते उतर पड़ा है...

'क्‍या न करें', 'क्‍या करें' -- बताता लेनिन के अन्‍दाज़ में।
नये-नये मुल्‍ले को मिलता खूब स्‍वाद है प्‍याज़ में।
भले आँख में पानी आवे, सन-सन होवे कान में।
दोन किहोते उतर पड़ा है...

ऐसे-ऐसे नारे देगा ऐसे मंत्र उचारेगा।
अबतक जो न हुआ वो सबकुछ छनभर में कर डालेगा।
चुटिया बाँध के पिला हुआ है गहरे अनुसन्‍धान में।
दोन किहोते उतर पड़ा है...

चिन्‍ता है दिन-रात कि नाम आवे कैसे इतिहास में।
सर्टिफिकेट भी परम्‍परा के वारिस का हो पास में।
लोहा माने दुनिया फिर साष्‍टांग करे सम्‍मान में।
दोन किहोते उतर पड़ा है...

बोधिज्ञान कुछ देर से मिला इसीलिए हड़बड़ में है।
'ये कर डालें; वो कर डाले' -- दिल-दिमाग़ गड़बड़ में है।
इन्‍क़लाब का केन्‍द्र बने तो जान आवे फिर जान में।
दोन किहोते उतर पड़ा है...

ज्ञान-धुरी जो समझ रहा वो कठमुल्‍लों का खूँटा है।
हाथी समझे है खुद को, लेकिन बौराया च्‍यूँटा है।
परम सत्‍य का महकउवा तम्‍बाकू डाले पान में
दोन किहोते उतर पड़ा है...






1 comment:

  1. आप की ये सुंदर रचना आने वाले सौमवार यानी 25/11/2013 को नयी पुरानी हलचल पर लिंक की जा रही है... आप भी इस हलचल में सादर आमंत्रित है...
    सूचनार्थ।

    एकमंच हम सब हिंदी प्रेमियों का साझा मंच है। आप को केवल इस समुह कीअपनी किसी भी ईमेल द्वारा सदस्यता लेनी है। उसके बाद सभी सदस्यों के संदेश या रचनाएं आप के ईमेल इनबौक्स में प्राप्त करेंगे। आप इस मंच पर अपनी भाषा में बात कर सकेंगे।
    कोई भी सदस्य इस समूह को सबस्कराइब कर सकता है। सबस्कराइब के लिये
    http://groups.google.com/group/ekmanch
    यहां पर  जाएं।   या  
    ekmanch+subscribe@googlegroups.com
    पर मेल भेजें।
    इस समूह में पोस्ट करने के लिए,
    ekmanch@googlegroups.com
    को ईमेल भेजें.
    http://groups.google.com/group/ekmanch
    पर इस समूह पर जाएं.

    [आप से भी मेरा निवेदन है कि आप भी इस मंच की सदस्यता लेकर इस मंच को अपना स्नेह दें तथा इस जानकारी को अपनी सोशल वैबसाइट द्वारा प्रत्येक हिंदी प्रेमी तक पहुंचाएं।]

    ReplyDelete