Friday, February 09, 2018



मैं इस ख़ातिर नहीं जीता कि दुनिया मेरे बारे में क्या सोचती है, बल्कि इस खातिर जीता हूँ कि मैं अपने बारे में क्या सोचता हूँ I
--- जैक लंडन

No comments:

Post a Comment