Thursday, May 18, 2017




भागो मत , तर्क करो !
तर्कसिद्ध को स्वीकार करो !
भक्ति नहीं , विचार करो !
जड़ता पर , प्रहार करो !
अध्ययन करो, व्यवहार करो !
ज्ञान का प्रसार करो !
भविष्य की पुकार सुनो !
नई क्रांति की राह चुनो !

-- कविता कृष्‍णपल्‍लवी

No comments:

Post a Comment