Saturday, April 23, 2011

कितने साथ्‍ा?
कितने हाथ?
कितनी शुभकामनाएं
लिए सिर माथ?
कब चलना है यहां से?
कब शुरु होनी है नयी यात्रा?
गुण में बदलनी है
कब मात्रा?

-कविता कृष्‍णपल्‍लवी 

No comments:

Post a Comment