Tuesday, January 04, 2011

मेरी कविताई: जीवन की धुनाई, विचारों की कताई, सपनों की बुनाई

र‍हस्‍य

मेरी पलकों पर टंगी हैं
कुछ बूंदें
आमंत्रित दुखों की ।
मेरी आत्‍मा पर
झुका है एक स्‍वप्‍न।
मेरे कानों में
फुसफुसा रही हैं स्‍मृतियां।
मेरी पीठ के नीचे है
पत्‍थर की कठोरता
और ऊपर तना है
छतरी-सा आसमान।
यूं तो
सोना भी उड़ना है।

1 comment: