Monday, January 10, 2011

मेरे प्रिय उद्धरण और कृति-अंश: कुतुबनुमा से दिशा दिखाते, राह बताते शब्‍द

वही कला असली कला है जो जीवन को प्रतिबिम्‍ि‍बत करे। उसमें सारे अन्‍तरद्वंद्व, संघर्ष, प्रेरणाएं, विजय, पराजय और जीवन के प्रति प्‍यार और मानव के व्‍यक्‍ितत्‍व के कुल पहलू मिलते हैं। वही असली कला है जो जीवन के विषय में गलत धारणाएं न दे।
                                             -नाजिम हिकमत  

No comments:

Post a Comment