Saturday, January 08, 2011

मेरे प्रिय उद्धरण और कृति-अंश: कुतुबनुमा से दिशा दिखाते, राह बताते शब्‍द

'' हमने किसी ऐसी उम्‍दा चीज़ का लुत्‍फ न कभी उठाया है और न ही कभी उठा पायेंगे, जिसमें कोई श्रम न लगा हो। चूंकि सभी उम्‍दा चीज़ें श्रम द्वारा पैदा की जाती हैं, इसलिए इसका सीधा निष्‍कर्ष यह है कि जिन्‍होंने श्रम करके चीज़ों को पैदा किया है, वे ही हर अधिकार के हक़दार होते हैं। मगर युगों से दुनिया में यही चला आ रहा है कि श्रम कोई करता है और फल के बड़े हिस्‍से का लाभ दूसरे उठाते हैं। यह ग़लत है और इसे नहीं चलने देना चाहिए। ....''
-अब्राहम लिंकन

No comments:

Post a Comment